राजस्थान घर-घर औषधि योजना क्या है? आवेदन, लाभ, बजट आदि – संपूर्ण जानकारी

आज इस आर्टिकल में हम आपको राजस्थान की एक योजना के बारे में बताने वाले हैं जिसका नाम है राजस्थान घर-घर औषधि योजना। दुनिया भर में कोरोना के कारण बहुत सारे लोगों को स्वास्थ सम्बंधित समस्याएं हो रही हैं जिसके कारण केंद्र सरकार और राज्य सरकार अलग-अलग योजनाए निकाल रही है ताकि लोगों को स्वास्थय सुधारने में मदद हो सके। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे की राजस्थान घर-घर औषधि योजना क्या है, इस योजना का उद्देश्य क्या है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करते हैं और इसके लाभ क्या हैं। तो राजस्थान औषधि योजना के बारे में सब कुछ जानने के लिए ये आर्टिकल पूरा पढ़ें।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना क्या है

राजस्थान घर-घर औषधि योजना के तहत राजस्थान राज्य के प्रत्येक नागरिक को 2-2 औषधीय पौधे दिए जाएंगे। इस योजना के अंतर्गत राजस्थान के हर नागरिक को राजस्थान वन विभाग की तरफ से तुलसी, गिलोय, कालमेघ और अश्वगंधा के 2-2 पौधे दिए जाएंगे। इस योजना की घोषणा राजस्थान के बजट के दौरान की गयी थी। इस योजना के तहत सरकार ने हर राज्य में बांटे जाने वाले पौधों की संख्या पहले ही निर्धारित कर दी है। इस योजना का लाभ राज्य के हर परिवार को 5 वर्ष तक दिया जाएगा। इस योजना से राज्य के लगभग 1.26 करोड़ परिवारों को लाभ होगा।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना का उद्देश्य

राजस्थान के वन विभाग द्वारा शुरू करी गयी घर-घर औषधीय योजना का उद्देश्य सिर्फ यही है की राजस्थान के लोगों की इम्युनिटी पावर यानी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जाए। इस योजना के माध्यम से सरकार पुरे राज्य को स्वस्थ बनाना चाहती है जिसके कारण वो तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा और कालमेघ जैसे औषधीय पौधे जनता को मुफ्त में बाँट रही है।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना के लिए आवेदन कैसे करें

राजस्थान सरकार द्वारा अभी इस योजना की शुरुआत नहीं की गयी है जिसके कारण अभी इस योजना की आवेदन प्रक्रिया के लिए कोई भी जानकारी नहीं है। लेकिन जैसे ही इस योजना की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाती है वैसे ही हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से इस योजना में आवेदन करने के बारे में सब कुछ बता देंगे।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना का बजट

ये योजना 5 साल तक चलेगी और ये सफलतापूर्वक पूरी हो सके इसके लिए राजस्थान सरकार ने ₹210 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया है। राज्य सरकार के हिसाब से राज्य के आधे घरों में 5 करोड़ से अधिक पौधे बांटने पर ₹31.4 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे। और इतनी में संख्या में अगले साल भी पौधे बांटे जाएंगे। 5 साल के अंदर हर परिवार को 24 पौधे प्राप्त होंगे। राजस्थानी सरकार इस योजना को सफल बनाने के लिए जमीनी स्तर पर कई अभियान चला रही है।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना के लाभ

  1. इस योजना के तहत राज्य के हर परिवार को 2-2 औषधीय पौधे दिए जाएंगे।
  2. राज्य सरकार द्वारा शुरू करी गयी ये योजना साल 2021 से लेकर साल 2024 तक चलेगी।
  3. इस योजना से राज्य के लगभग 1.26 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा।
  4. इस योजना का मुख्य उद्देश्य तो लोगों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना ही है और इसलिए इस योजना के तहत सरकार लोगों को जो पौधे देगी उनका इस्तेमाल करके लोग अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा पाएंगे ताकि वो बीमारी से बचे रहें।

राजस्थान घर-घर औषधि योजना से सम्बंधित सवाल

1. राजस्थान घर-घर औषधि योजना की शुरुआत किसने की है?

राजस्थान घर-घर औषधि योजना की शुरुआत राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत द्वारा की गयी है।

2. राजस्थान घर-घर औषधि योजना की शुरुआत कब हुई थी?

इस योजना की शुरुआत 1 अगस्त 2021 को 72वें महोत्सव पर निरोग राजस्थान कैंपेन के अंतर्गत की गयी थी।

3. राजस्थान घर-घर औषधि योजना के अंतर्गत कौन-कौन से पौधे दिए जाएंगे?

इस योजना के अंतर्गत नागरिकों को तुलसी, गिलोय, कालमेघ और अश्वगंधा जैसे औषधीय पौधे दिए जायेंगे।

4. क्या राजस्थान घर-घर औषधि योजना के तहत लोगों को पौधे मुफ्त में दिए जाएंगे?

हाँ, इस योजना के अंतर्गत राज्य के प्रत्येक व्यक्ति को औषधीय पौधे मुफ्त में दिए जाएंगे।

ये भी पढ़ें:

निष्कर्ष

दोस्तों, इस आर्टिकल में हमने आपको राजस्थान घर-घर औषधीय योजना से सम्बंधित संपूर्ण जानकारी से दे दी है। और अब आपको यकीनन समझ में आ गया होगा की राजस्थान घर-घर औषधीय योजना क्या है और इसके लाभ क्या हैं। अगर आपको ये आर्टिकल और इसमें दी गयी जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने राजस्थानी दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि वो इस योजना का लाभ उठा अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा सकें।

अगर आप भारतीय योजनाओं से जुड़ी हर जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे साथ हमारे टेलीग्राम ग्रुप पर जरूर जुड़ें। वहां पर हम किसी भी योजना से सम्बंधित जानकारी सबसे जल्दी शेयर करते हैं।

Leave a Comment