मुख्यमंत्री असंगठित मजदूर कल्याण योजना क्या है?

दोस्तों आज इस article में हम आपको बताने वाले हैं एक ऐसी योजना के बारे में जो की मजदूरों के कल्याण के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गयी है। इस योजना का नाम है मुख्यमंत्री असंगठित मजदूर कल्याण योजना

जैसा की इस योजना के नाम से ही पता चलता है की ये योजना मज़दूरों के कल्याण के लिए शुरू की गयी है। और इस article में हम आपको इस योजना से सम्बंधित सभी जरूरी जानकारियों के बारे में बताएँगे। जैसे – मजदूर कल्याण योजना क्या है, इसका उद्देश्य क्या है, इसके क्या लाभ हैं, और इस योजना का लाभ उठाने के लिए Eligibility क्या है। इस article में हम मुख्यमंत्री असंगठित मजदूर कल्याण योजना से सम्बंधित आपके सभी doubts clear कर देंगे।

तो दोस्तों, इस article को अंत तक जरूर पढ़ें।

मजदूर कल्याण योजना क्या है?

योजना का नाममुख्यमंत्री असंगठित मजदूर कल्याण योजना
Official Websitehttp://shramiksewa.mp.gov.in/
किस राज्य के लिए हैमध्य प्रदेश
उद्देश्यमजदूरों की मदद करने हेतु
लाभार्थीमध्य प्रदेश राज्य के मजदूर

मजदूर कल्याण योजना एक बहुत ही अच्छा कदम है जो मध्य प्रदेश सरकार द्वारा उठाया गया है। इस योजना के तहत राज्य की सरकार के बजट में से 50% हिस्सा मजदूरों के कल्याण के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। इस योजना से मजदूरों के जीवन में बहुत सुधार होगा। और इससे उन्हें काफी मदद भी मिलेगी।

इस योजना से केवल पुरुषों को ही नहीं बल्कि महिलाओं को भी काफी लाभ होगा। जैसे – जब मजदूर महिला गर्भवती होगी, तो गर्भावस्था के 6 से 9 महीने के दौरान, 4000 रुपये, महिला के bank account में डाल दिए जाएंगे। और जब महिला बच्चे को जन्म देगी तब उसके खाते में 12000 रुपये डाले जाएंगे ताकि माँ और बच्चे दोनों का भरण-पोषण अच्छे से हो सके और उसमे कोई भी परेशानी ना आये।

मजदूर कई तरह के होते हैं और हम जानते हैं की अब आप ये सोच रहे होंगे की ये योजना किन मजदूरों के लिए है। निचे आपके इस सवाल का जवाब मौजूद है।

असंगठित मजदूर योजना के अंतर्गत कौन से मजदूर आते हैं?

इस योजना के अंतर्गत कई तरह के मजदूर आते हैं, जिनमे से कुछ हैं – छोटे दुकानदार, ईंट बनाने वाले, लकड़ी के सामान बनाने वाले, चमड़े का सामान व जूते बनाने वाले, गोदामों के कर्मचारी, Auto चलाने वाले, छोटे व्यापारी, आदि।

यहाँ पर हमने कुछ ही मजदूरों के बारे में बताया है, लेकिन इनसे भी कई ज़्यादा मजदूर हैं जो इस योजना के अंतर्गत आते हैं और इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

मजदूर योजना को शुरू करने का उद्देश्य क्या है?

इस योजना को शुरू करने का केवल एक ही कारण है और वो है मजदूरों के जीवन को बेहतर बनाना। मजदूर चंद रुपये कमाने के लिए जी-तोड़ मेहनत करता है और उसके बाद उन चंद पैसों से उसे अपने घर को भी चलाना होता है और ये सब बहुत ही कठिन होता है।

और मजदूरों के लिए कोई भी कुछ भी नहीं सोचता है, इसलिए सरकार ने मजदूरों के भले के बारे में सोचते हुए इस योजना का आरम्भ किया है। इस योजना के अंतर्गत आने वाले सभी मजदूरों को सर्कार की तरफ से काफी सहायता मिलेगी और उनका कल्याण होगा।

मजदूर कल्याण योजना के क्या-क्या लाभ हैं?

अब हम आपको बताएँगे की मजदूर कल्याण योजना के क्या लाभ हैं। इस योजना के सभी लाभ निचे लिखे हुए हैं।

  1. मजदूरों को काम करने के लिए जिन भी औजारों (Tools ) की जरूरत होती है, वो सभी औजार सरकार द्वारा मजदूरों को उपलब्ध कराये जाएंगे।
  2. यदि मजदूर को काम करते वक़्त Partial Permanent Disability हो जाती है तो उसे 1 लाख रुपये का मुआवज़ा दिया जाएगा और अगर मजदूर को काम करते वक़्त Permanent Disability हो जाती है तो उसे 2 लाख रुपये का मुआवजा मिलेगा।
  3. मजदूरों के पुराने बिजली के बिल भी जमा करवाए जाएंगे और इतना ही नहीं, उन्हें उनके घर पर केवल 200 रुपये में बिजली भी उपलब्ध करवाई जायेगी।
  4. मध्य प्रदेश मजदूर योजना के अंतर्गत असंगठित मजदूरों के बच्चों की पढाई का सारा खर्चा मध्य प्रदेश सरकार द्वारा ही उठाया जाएगा।
  5. अगर किसी श्रमिक का बच्चा School से अलग कहीं Coaching Class में भी पढ़ना चाहता है तो उसका खर्चा भी सरकार द्वारा ही उठाया जाएगा।
  6. रिक्शा चलने वाले मजदूरों को E-Rickshaw उपलब्ध कराये जाएंगे।

मजदूर कल्याण योजना के लिए क्या Eligibility है?

  1. मजदूर कल्याण योजना का लाभ उठाने वाले की उम्र 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए। तभी वो इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है।
  2. आवेदन करने वाला मजदूर मध्य प्रदेश राज्य में कम से कम 5 साल से निवास कर रहा होना चाहिए।
  3. आवेदन करने वाला किसी भी प्रकार का Government Employee नहीं होना चाहिए।
  4. आवेदन करने वाला मजदूर मध्य प्रदेश का ही मूल निवासी होने चाहिए।
  5. मजदूर 8 बिगाह से ज़्यादा की जमीन का मालिक नहीं होना चाहिए।

योजना में आवेदन करने के लिए जरूरी Documents

  1. आवेदक के पास उसका मूल निवास का पता और आय प्रमाण पत्र होना चाहिए।
  2. Passport Size की photo होनी चाहिए।
  3. आवेदन करने वाले के पास उसका आधार Card जरूर होना चाहिए।
  4. इन सभी Documents के आलावा आवेदन करने वाले के पास मजदूर Card भी होना चाहिए और यह बहुत जरूरी है।

मुख्यमंत्री असंगठित मजदूर कल्याण योजना में आवेदन कैसे करें?

अगर आप मजदूर कल्याण योजना में आवेदन करने के लिए Eligible हैं और इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो निचे दिए गए steps को ध्यान से follow करें।

1. योजना के लिए आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको योजना के Official website पर जाना होगा। Website पर जाने के लिए यहाँ पर Click करें

2. Link पर click करने के बाद आप website के homepage पर आ जायेंगे उसके बाद आपको scroll करके website में निचे आना है।

3. निचे आने के बाद FAQ के ऊपर आपको आवेदन का प्रारूप के नाम से एक option दिखाई देगा। आपको उस option पर click करना है।

Click on Aavedan Praroop option

4. अब आवेदन का प्रारूप option के निचे आपको आवेदन प्रारूप का option दिखेगा आपको उस पर click करना है।

5. आवेदन प्रारूप के option पर click करते ही आप एक नए webpage पर redirect हो जाएंगे जहाँ पर आपको असंगठित मजदूर के रूप में Registration के लिए आवेदन पत्र दिखेगा।

6. अगर आप आवेदन पत्र को download करना चाहते हैं तो उस आवेदन पत्र के webpage पर आपको Right में ऊपर की तरफ download का option दिखेगा आपको उस पर click करना है।

7. आवेदन पत्र download होते ही आपको उस पत्र का print निकालकर उसमे पूछी गयी जानकारियों को भरकर उसके साथ सभी जरूरी documents को attach करके उन्हें सम्बंधित विभाग में जमा करवा देना है।

इस प्रकार आप मजदूर कल्याण योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Conclusion

इस article में हमने आपको मुख्यमंत्री मजदूर कल्याण योजना से सम्बंधित सभी जरूरी जानकारियां दे दी हैं। और इस article को पढ़ने के बाद आपके सभी problems दूर भी हो गए होंगे।

अगर आपको ये article पसंद आया हो तो इस article को ज़्यादा से ज़्यादा share करें ताकि किसी जरूरतमंद की मदद हो सके।

Leave a Comment